कावेरी की मनी मेकर कपास से किसान हुए खुशहाल

Share On :

kaveri-cotton-seed-gives-farmer-huge-profit

सफलता की कहानी 

मैं भूपेंद्र पाटीदार रमणगांव, मैंने मनी मेकर कपास अपने खेत में लगाया था। जिसका उत्पादन मुझे प्रति एकड़ 15  क्विंटल मिला। मनी मेकर कपास की यह विशेषता है कि यह चुनाई में आसान, डेंडू बड़ा, वजनदार होता है। और रसचूसक कीट भी कम आते हैं। मनी मेकर कपास के डेंडू पास -पास लगते हैं मनी मेकर कपास के डेंडू के अंदर 9  काकड़े आते हैं और छिल्का पतला आता है।

 

 

मैं कृष्णलाल पाटीदार उबधी, मैंने मनी मेकर कपास को तीन एकड़ में लगाया था। जिसका उत्पादन मुझे प्रति एकड़ 20  क्विंटल मिला। मनी मेकर कपास का डेंडू बड़ा और वजनदार होता है। इसमें बीमारी भी कम आती है। मनी मेकर कपास के डेंडू पास-पास और लरी से लगते हैं। मनी मेकर कपास मजदूरों की भी पसंद है, क्योंकि मनी मेकर कपास चुनना पसंद करते हैं।

 

 

मैं प्यार सिंह मगतिया, ग्राम मेहस्याखेड़ी मैंने मनी मेकर कपास अपने खेत में लगाया था और जिसका मुझे उत्पादन प्रति एकड़ 13  क्विंटल मिला। मेरे खेत पर कावेरी कम्पनी द्वारा प्रोग्राम किया गया था जिसमें आसपास के किसान भाई देखने आए थे। कम्पनी प्रतिनिधि द्वारा किसानों को कपास के एक गलके  का वजन करके बताया गया जिसका वजन 8 ग्राम आया। किसान भाइयों ने बोला कि मनी मेकर कपास का जैसा नाम है, वैसा ही काम है। मतलब बड़ा व वजनदार डेंडू,  डेंडू पास -पास और लरी में लगते हैं। मनी मेकर कपास पर अन्य कपास के मुकाबले में बीमारी कम आती है। मनी मेकर कपास चुनाई में भी आसान है। मनी मेकर कपास किसान भाइयों के लिए एक उच्च क्वालिटी की वेरायटी है।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles