देश में 3.3 करोड़ टन शकर उत्पादन की संभावना

Share On :

potential-for-producing-33-million-ton-of-sugar-in-the-country

नई दिल्ली। चीनी उद्योगों के प्रमुख संगठन - भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) ने कहा कि देश में शक्कर उत्पादन अक्टूबर 2018 से शुरू हुए चालू विपणन वर्ष के पहले सात महीनों (अक्टूबर से अप्रैल) में 3.21 करोड़ टन तक पहुंच गया। इस्मा के मुताबिक मौजूदा विपणन सत्र के दौरान कुल चीनी उत्पादन 3.3 करोड़ टन की नई रिकॉर्ड ऊंचाई को छू सकता है। इस्मा ने एक बयान में कहा है कि भले ही चालू वर्ष में गन्ने की पेराई का स्तर पिछले साल की तुलना में कम रहा हो लेकिन 2018-19 में शक्कर का उत्पादन पिछले साल की तुलना में मामूली अधिक होगा। 

इस्मा ने अनुमान व्यक्त किया है कि पूरे देश में चालू वर्ष के दौरान शक्कर उत्पादन लगभग 3.3 करोड़ टन होने की उम्मीद है जो पिछले साल की तुलना में लगभग 5,00,000 टन अधिक होगा।  पिछले 15-20 दिनों में शक्कर उत्पादन की गति धीमी हो गई है। 

बड़ी संख्या में चीनी मिलें पिछले चीनी सत्र की तुलना में कहीं अधिक तेजी के साथ पेराई काम बंद कर रही हैं। इस्मा ने कहा कि विपणन वर्ष 2018-19 के अंत में चीनी स्टॉक 1 अक्टूबर, 2018 के 1.07 करोड़ टन के बचे स्टॉक को ध्यान में रखते हुए लगभग 1.47 करोड़ टन के उच्च स्तर पर होगा। 

गन्ना किसान की बढ़ी परेशानी

शक्कर का रिकॉर्ड तोड़ उत्पादन किसानों के लिए नुकसानदायक होगा। बढ़े उत्पादन और घटे निर्यात के कारण शक्कर कारखानों पर किसानों की देनदारी बढ़ती जा रही है। आगे चलकर ये आंकड़ा शक्कर कारखानों को मुश्किल में डाल सकता है। सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के शक्कर कारखानों पर किसानों का सबसे ज्यादा बकाया है।

 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles