धार में - जीएसपी की किसान सभा संपन्न

Share On :

in-dhar---gsps-kisan-sabha-concluded

इंदौर। देश की प्रतिष्ठित बहुराष्ट्रीय कम्पनी जीएसपी क्रॉप साइंस प्रा.लि. ने अपनी विशेष किसान सभा का आयोजन गत दिनों धार में किया। इसका मकसद लक्की ड्रॉ के भाग्यशाली किसानों को उपहार प्रदान करना था। इस अवसर पर बड़ी संख्या में उपस्थित किसानों को कम्पनी के नए उत्पादों की भी जानकारी दी गई। इस कार्यक्रम में कम्पनी के ज्वाईंट एमडी श्री भावेश शाह, जनरल मैनेजर श्री राजेंद्र लाडगे, सीनियर जोनल मैनेजर श्री साधु जाधव,जोनल मैनेजर श्री अजय विश्वकर्मा, रीजनल मैनेजर श्री आशुतोष गुप्ता, प्रोडक्ट डेवलपमेंट हेड श्री दीपक पटेल और टेरेटरी मैनेजर श्री नितेश राठौर मौजूद थे।

श्री भावेश शाह, ज्वाइंट एमडीइस मौके पर श्री भावेश शाह ने किसानों को वास्तविक उत्पादक बताते हुए कहा कि जीएसपी का मिशन अच्छी किस्म का नया उत्पाद किसानों को किफायती दाम पर उपलब्ध करवाना है। हमारे पास हर फसल के लिए नए उत्पाद इसलिए उपलब्ध हैं, क्योंकि हम किसानों की जरूरत के हिसाब से उत्पाद बनाते हैं। एसएलआर -525 हमारा पेटेंट उत्पाद है। 2017 में 23 उत्पाद पेटेंट कराए थे। हमारा सपना मेक इन इंडिया बनाना है। 21वीं सदी के लिए जरुरी टेक्नालॉजी हमारे पास है। यहां तक कि इसरो में प्रयुक्त होने वाले रसायन भी हम उपलब्ध कराते हैं। श्री शाह ने व्हाइट ग्रब (गोबर कीड़ा) के प्रति चिंता प्रकट कर कहा कि यह कीड़ा हर फसल जैसे कपास, सोयाबीन, मूंगफली और मिर्च आदि जड़ों में घुसकर नुकसान पहुंचता है। 

श्री राजेंद्र लाडगे ने कहा कि जीएसपी ने वर्ष 2018-19  में एक्रॉस -3  और एसएलआर -525 दोनों उत्पाद के साथ किसानों के लिए लक्की ड्रॉ का आयोजन किया गया था। जिसमें तीन राज्य शामिल थे। भाग्यशाली विजेता किसानों को उपहार देने के लिए यह किसान सभा धार में आयोजित की गई।

श्री दीपक पटेल ने कहा कि इस साल जीएसपी के चार नए उत्पाद लांच हुए है। इनमें ब्लॉक उत्पाद हर्बीसाइड धान के लिए है। जबकि दूसरा उत्पाद प्लेज फंगीसाइड सोयाबीन और कपास के लिए है। फ्लुट उत्पाद नया टेक्नीकल है जो सोयाबीन और कपास के पौधों की वृद्धि में उपयोगी है। 

चौथा उत्पाद गाइडलाइन है यह कपास और धान के लिए है। कार्यक्रम के अंत में लक्की ड्रॉ के प्रथम विजेता किसान श्री राहुल भाकर को ट्रैक्टर का और अन्य किसानों को उपहार दिए गए। कार्यक्रम का संचालन श्री आशुतोष गुप्ता ने किया और आभार श्री अजय विश्वकर्मा ने किया।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles