आवश्यक है फलों व सब्जियों के उत्पादन में वृद्धि

Share On :

it-is-necessary-to-increase-the-production-of-fruits-and-vegetables

पिछले कुछ वर्षों में देश में फलों व सब्जियों के उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि देखने को मिली है। वर्ष 2016-17 में देश में फलदार वृक्ष 63.73 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में थे और इस वर्ष इनका उत्पादन 929.18 लाख टन हुआ। वर्ष 2017-18 में इनका क्षेत्र बढ़कर 64.28 लाख हेक्टेयर पहुंच गया और उत्पादन भी बढ़कर 948.84 लाख टन तक पहुंच गया। एक ही वर्ष में क्षेत्र में 55 हजार हेक्टेयर तथा उत्पादन में 19.66 लाख टन की वृद्धि फल उत्पादन में सकारात्मक प्रगति की ओर इशारा करती है। देश में फलों के राजा आम का क्षेत्र अभी भी सबसे अधिक है। वर्ष 2016-17 जहां आम के बाग 22.12 लाख हेक्टेयर में थे वह भी वर्ष 2017-18 में बढ़कर 22.59 लाख हेक्टेयर तक पहुंच गये। आम के क्षेत्र में भी एक वर्ष में 47 हजार हेक्टेयर की वृद्धि हुई जबकि फलों के कुछ क्षेत्र में उक्त वर्ष में 55 हजार हेक्टेयर की वृद्धि हुई थी। अभी भी किसान फलों में आम को सबसे अधिक प्राथमिकता दे रहा है। देश में फलों के कुल क्षेत्र के 35 प्रतिशत क्षेत्र में आम के बाग हैं। आम के बाद नींबू प्रजाति के फलों का क्षेत्र देश में सबसे अधिक है। वर्ष 2016-17 में देश में इनका क्षेत्र 9.85 लाख हेक्टेयर में फैला था जो वर्ष 2017-18 में घटकर 9.76 लाख हेक्टेयर ही रह गया परन्तु उत्पादन क्रमश: 114.19 लाख टन से बढ़कर 117.17 लाख टन पहुंच गया। देश में केले की खेती का तीसरा स्थान आता है। इसके क्षेत्र तथा उत्पादन में वर्ष प्रति वर्ष उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं। वर्ष 2016-17 में यह 8.60 लाख हेक्टेयर में लिया गया था और इसका उत्पादन 304.77 लाख टन हुआ। वर्ष 2017-18 में इसकी खेती 8.57 लाख हेक्टेयर में की गई थी और उत्पादन 302.01 लाख टन हुआ। वर्ष 2016-17 में सब्जियों की खेती 102.38 लाख हेक्टेयर में की गई थी, जिससे 1781.72 लाख टन सब्जियों का उत्पादन हुआ। वर्ष 2017-18 में सब्जियों का क्षेत्र घटकर 101.72 लाख हेक्टेयर ही रह गया, जबकि उत्पादन बढ़कर 1806.84 लाख टन तक पहुंच गया। सब्जियों में आलू की खेती सबसे अधिक क्षेत्र में की जाती है। वर्ष 2016-17 में इसे 21.79 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में लगाया गया था जिससे 486.05 लाख टन उत्पादन मिला। वर्ष 2017-18 में इसके क्षेत्र में कुछ कमी आई और इसका क्षेत्र घटकर 21.76 लाख हेक्टेयर रह गया परंतु उत्पादन बढ़कर 493.44 लाख टन तक पहुंच गया। आलू के बाद देश में प्याज की खेती सबसे अधिक होती है। वर्ष 2017-18 में इसकी खेती इसकी खेती 11.96 लाख हेक्टेयर में की गई थी जिससे 214.02 लाख टन प्याज का उत्पादन हुआ। देश में तीसरे नम्बर पर टमाटर की खेती की जाती है। वर्ष 2017-18 में इसकी खेती 8.01 लाख हेक्टेयर में की गई थी जिससे 223.37 लाख टन टमाटर का उत्पादन हुआ। मध्य प्रदेश, राजस्थान तथा छत्तीसगढ़ में फलों की खेती क्रमश: 3.54, 0.57 तथा 2.28 लाख हेक्टेयर तथा सब्जियों की खेती 9.29, 1.81 तथा 5.02 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में ही की जाती है। किसानों की आय बढ़ाने तथा इनकी सुचारू उपलब्धता के लिए इनके क्षेत्र को इन राज्यों में बढ़ाने की आवश्यकता है जिसके प्रयास में गति लाना आवश्यक है।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles