गर्भनाल-न्यास की 'इनस्क्रिप्ट की-बोर्ड सीखो' कार्यशाला

Share On :

inscript-key-board-learn-workshop-of-umbilical-trust

भोपाल। हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं की लिपियों की रक्षा और संरक्षण के अभियान में संलग्न गर्भनाल-न्यास की इनस्क्रिप्ट की-बोर्ड सीखो कार्यशाला, शासकीय हमीदिया कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय, भोपाल के स्वर्ण जयंती सभागार में हुई। कार्यशाला में विभिन्न महाविद्यालयों से आये प्राध्यापकों के अलावा हिंदी प्रेमी उपस्थित थे, जिन्हें 'इनस्क्रिप्ट की-बोर्ड' के संचालन तथा इंस्टालेशन संबंधी पद्धतियों से अवगत कराया गया।

कार्यशाला पर प्रकाश डालते हुए गर्भनाल न्यास के सचिव आत्माराम शर्मा ने कहा कि रोमन लिपि का जिस गति से प्रचलन बढ़ा है उससे भारतीय भाषाओं के समक्ष विस्मरण का खतरा मंडरा रहा है। उन्होंने कहा कि सन् 2050 में भारत में बोल-चाल की भाषा कौन-सी होगी, इस पर आज ही विचार करना होगा। 

आयोजन के विशिष्ट वक्ता कवि-कथाकार ध्रुव शुक्ल ने इस मुहिम को शब्द-ब्रह्म को बचाने की मुहिम बताया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे शासकीय हमीदिया कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय, भोपाल के प्राचार्य डॉ. पी.के. जैन ने कार्यशाला को उपयोगी बताया। 

प्रारंभ में महाविद्यालय के प्रो. धर्मेन्द्र पारे ने कार्यशाला की उपयोगिता पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस अवसर पर प्रो. मुदुला निगम भी उपस्थित थीं। कार्यशाला में प्रजेंटेशन के दौरान दो घंटे में इंस्क्रिप्ट की-बोर्ड सीखने वाली सुश्री वृन्दा शर्मा ने प्रतिभागियों के समक्ष हिन्दी में टाइप करने का प्रदर्शन किया। 
 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles