समन्वित प्रयास से कृषि क्रांति आएगी : श्री सिंह

Share On :

krishi-kranti-will-come-together-in-coordinated-efforts-mr-singh

14वां कृषि विज्ञान सम्मेलन

नई दिल्ली। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधामोहन सिंह ने राष्ट्रीय कृषि विज्ञान अकादमी द्वारा कृषि क्रांति के लिए नवाचार विषय पर पूसा, नई दिल्ली में आयोजित 14वें कृषि विज्ञान सम्मेलन के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा मैं इस सम्मेलन को एक विविध रंगी वैश्विक- कुंभ मानता हूं। यह शोधकर्ताओं, बुद्धिजीवियों, रचनात्मकता और वैश्विक खाद्य सुरक्षा के संरक्षकों के संगम को दर्शाता है।

श्री सिंह ने बताया कि सरकार ने कृषि के पुनरोद्धार के साथ-साथ किसानों की समृद्धि के लिए कई अभिनव और व्यावहारिक कदम उठाए हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, प्रति बूंद,अधिक फसल के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, विपणन के लिए ई-नाम  और न्यूनतम समर्थन मूल्य आदि योजनाएँ किसानों को सामथ्र्य प्रदान करने में अहम भूमिका निभा रही हैं।

किसानों की आय दोगुनी करने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। हाल ही में सरकार ने किसानों की सुनिश्चित आय के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान  नामक एक नई योजना की घोषणा की है। इस योजना को दिसंबर 2018 से लागू कर दिया गया है। किसानों को प्रति वर्ष 6,000 रुपये की प्रत्यक्ष आय सहायता प्रदान की जाएगी। इस योजना से लगभग 12 करोड़ कृषक परिवार सीधे लाभान्वित होंगे।

उन्होंने बताया कि पशु-पालन तथा मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए किसान ऋण स्कीम से कृषकों को मात्र 2 प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण प्रदान करने का प्रावधान वर्ष 2019 के बजट में रखा गया है।  इसके अतिरिक्त, समय से ऋण का भुगतान करने पर 3 प्रतिशत अतिरिक्त ऋण की आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाएगी।  इस वर्ष के बजट में राष्ट्रीय गोकुल मिशन  हेतु 750 करोड़ का प्रावधान किया गया है, जिससे देश में दूध के उत्पादन तथा उत्पादकता में वृद्धि हो सकेगी। 

उन्होंने बताया कि इस सम्मेलन में विचार-विमर्श और चर्चा के लिए 10 विषयगत क्षेत्रों पर विद्वान वैज्ञानिकों की विशिष्ट मंडली द्वारा चर्चा की जाएगी। मुझे विश्वास है कि यह सम्मेलन अनुसंधान के प्राथमिक क्षेत्रों को अनुसूचित करने, नवीन समाधान और प्रौद्योगिकी के मानचित्रण एवं नीति-निर्धारण करने में सफल रहेगा। सम्मेलन में केन्द्रीय कृषि राज्यमंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, भा.कृ.अ.प. महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्रा एवं डॉ. पंजाब सिंह उपस्थित थे।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles