घट सकती, है गेहूं की खरीदी

Share On :

gram-is-coming-into-the-gram-crop--it-has-been-observed-somewhere-in-the-wake-of-the-wick-explain-th

भोपाल। चालू विपणन वर्ष में समर्थन मूल्य पर गेहूं की ख्ररीदी घटने की संभावना है। देश एवं प्रदेश में बेमौसम बरसात तथा ओलावृष्टि को इसका मुख्य कारण माना जा रहा है। इस कारण ही देश में कुल 189 लाख हेक्टेयर की फसलें प्रभावित होने का अनुमान लगाया गया है। जबकि पूर्व में 94 लाख हेक्टेयर में नुकसान होने का आकलन किया गया था। बेमौसम बरसात एवं ओलावृष्टि के कारण ही उत्तर भारत के गेहूं उत्पादक राज्यों में फसल कटाई देर से शुरू हुई, तथा गेहूं की गुणवत्ता पर भी असर पड़ा। हालांकि सरकार ने चमक विहीन एवं टूटेे दाने का गेहूं भी खरीदने के लिये मानकों को शिथिल किया है। फिर भी खरीदी रफ्तार नहीं पकड़ पा रही है। देश में 305 लाख टन खरीदी लक्ष्य के विरूद्ध अब तक मात्र 158 लाख टन गेहूं खरीदी हो पायी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 169 लाख टन गेहूं की खरीदी कर ली गई थी। वहीं म.प्र. में 80 लाख टन के विरूद्ध मात्र 60 लाख टन गेहूं खरीदी की संभावना जताई जा रही है क्योंकि अब तक मात्र 42 लाख टन गेहूं की खरीदी की गई है। साथ ही प्रदेश में कुल 5.70 लाख हेक्टेयर की फसल को नुकसान पहुंचा है।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles