इंडियन वाटर वक्र्स एसोसिएशन का 51वां सम्मेलन

Share On :

indian-water-curves-associations-51st-conference

इंदौर। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय सभागार में  51वें  इंडियन वाटर वक्र्स एसोसिएशन के तीन दिवसीय सम्मेलन का उद्घाटन लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री सुखदेव पांसे ने किया। इस आयोजन में सैकड़ों  वाटर वक्र्स कंपनियां और देश और विदेश के हजारों पेयजल इंजीनियर शामिल हो रहे हैं। यह सम्मेलन 1968 से आयोजित किया जा रहा है।

इस अवसर पर श्री पांसे ने कहा कि जल ही जीवन का आधार है। धरती पर दो तिहाई भाग जल है, मगर धरती पर दस प्रतिशत पानी ही पीने योग्य है। जल संरक्षण और भू-जल संवर्धन हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है। फिर भी जल संरक्षण के क्षेत्र में म.प्र. में पिछले 40 वर्षों में उल्लेखनीय कार्य हुआ है। सम्मेलन का मुख्य आकर्षण वाटर वक्र्स प्रदर्शनी है। सम्मेलन को एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष श्री उत्तम पारसेकर, श्री जी.आर. बाबूकुमार, श्री कोमल प्रसाद ने भी संबोधित किया। भोपाल जोन के श्री के.के. सोनगरिया को अध्यक्ष चुना गया। उल्लेखनीय कार्य के लिए नागपुर, पूना, मुंबई  सेंट्रल के प्रतिनिधियों को सम्मानित किया गया।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles