किसानों का रुझान जैविक खाद की ओर

Share On :

farmers-trend-towards-organic-manure

अमरपाटन। वर्तमान में जमीन के अन्दर पाये जाने वाले सूक्ष्म जीव एवं समाप्त हो रहे पोषक तत्वों को बचाने के लिए जैविक खाद का उपयोग जरूरी हो गया है। इसी आशय को लेकर भल्ला आर्गेनिक फर्टिलाइजर सतना द्वारा अमरपाटन तहसील के ग्राम महुहट में एक कृषक सम्मेलन एवं संगोष्ठी का आयोजन गत सप्ताह किया गया।

कृषक सम्मेलन में भल्ला आर्गेनिक फर्टिलाइजर के डायरेक्टर सर्वश्री विक्रम वर्मा, सहकारी समिति अमरपाटन के ब्रांच मैनेजर रमाकान्त पटेल, कृषि वैज्ञानिक पी.आर. पाण्डेय, वरिष्ठ कृषि विस्तार अकिारी आर.बी. सिंह, सहकारी समिति महुहट के प्रबंधक सुरेन्द्र सिंह ने सम्मेलन को सम्बोधित किया। कृषि वैज्ञानिक श्री पी.आर. पाण्डेय ने खेती की जमीन की उर्वराशक्ति को बचाने के लिए जैविक खाद का उपयोग किसानों को करना आवश्यक है, भल्ला आर्गेनिक फर्टिलाइजर के वैज्ञानिक एवं प्रोडक्शन प्रबंधक ने कंपनी द्वारा तैयार उत्पाद भल्ला जैविक खाद, जैविक डीएपी, जैविक तरल यूरिया, वर्मी कम्पोस्ट, ग्रोथ प्रमोटर, कल्चर राइजोबियम, पी.एस.बी., एजेटोबेक्टर, बायो इन्सेक्टिसाइड एवं पेस्टीसाइड के निर्माण एवं उपयोग के संबंध में बताया, चना, मसूर के उकठा रोग एवं निदान के बारे में भी बताया।

कार्बन का मुख्य स्त्रोत है जैविक खाद। किसान भाईयों को जैविक डीएपी का उपयोग प्याज की फसल एवं अन्य सब्जियों में करने का तरीका बताया गया। श्री पांडे ने बताया कि जिन किसान भाईयों ने जैविक खाद का उपयोग धान की फसल में किया। उनकी फसल में 15 से 25 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, इसी प्रकार यदि रबी की फसल में भी किसान जैविक खाद का उपयोग करता है तो उपज में 15 से 25 प्रतिशत की वद्धि मिलेगी। 

भल्ला आर्गेनिक फर्टिलाइजर द्वारा निर्मित जैविक डीएपी (प्रोम) में 16 प्रकार के सभी आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि एक सम्पूर्ण खाद है। भल्ला आर्गेनिक फर्टिलाइजर के डायरेक्टर श्री विक्रम वर्मा ने किसान भाईयों को उच्च गुणवत्ता की जैविक डीएपी एवं जैविक खाद प्रदाय करने एवं समय-समय पर इसी प्रकार किसान सम्मेलन के आयोजन की बात की।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles