कृषक जगत की प्रेरणा स्त्रोत - श्रीमती चंद्रकांता गंगराड़े पंचतत्व में विलीन

Share On :

krashak-jagat-inspiration-source-mrs-chandrakanta-gangarad-merge-into-panchatattva

भोपाल। कृषक जगत की प्रेरणा स्त्रोत, संस्थापक एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. श्री सुरेशचंद्रजी गंगराड़े की धर्मपत्नी तथा संपादक सुनील गंगराड़े की माताजी एवं कृषक जगत के प्रधान संपादक विजय कुमार बोन्द्रिया की काकीजी श्रीमती चंद्रकांता गंगराड़े गत 5 जनवरी 2019 को सुभाष नगर विश्रामघाट भोपाल में पंचतत्व में विलीन हो गईं। मुखाग्नि उनके पुत्र सुनील गंगराड़े ने दी। वे 89 वर्ष की थीं।

ज्ञातव्य है कि गंगराड़े-बोन्द्रिया संयुक्त परिवार की आधार स्तंभ एवं परोपकारिणी महिला मंडल की संस्थापक सदस्य श्रीमती गंगराड़े का गत 4 जनवरी 2019 को प्रात: निधन हो गया था। उनकी अंतिम यात्रा 5 जनवरी को निज निवास से निकाली गई। इस मौके पर परिजन, नाते-रिश्तेदार, अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक सहित अखिल भारतीय गंगराड़े समाज के पदाधिकारी उपस्थित थे। विश्राम घाट पर शोकसभा में पुण्यात्मा को दो मिनट का मौन रखकर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। परिवार को एक सूत्र में बांधकर रखने वाली एवं धार्मिक प्रवृत्ति की श्रीमती गंगराड़े अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गई हैं। उन्होंने भजन संग्रह पुस्तक का प्रकाशन भी किया था।

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles