पाला प्रभावित क्षेत्रों का शीघ्र सर्वे कराएं - श्री यादव

Share On :

get-a-quick-survey-of-the-affected-areas---mr-yadav

कृषि मंत्री श्री यादव ने ग्रहण किया कार्यभार

भोपाल। मंत्री किसान कल्याण तथा कृषि विकास, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण श्री सचिन यादव ने गत दिनों मंत्रालय में कार्यभार ग्रहण किया। इस अवसर पर श्री अरुण यादव, श्री रामेश्वर नीखरा सहित अन्य जन-प्रतिनिधि, विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. राजेश राजौरा एवं अन्य शासकीय अधिकारी उपस्थित थे।

श्री यादव ने कार्यभार ग्रहण करने के तत्काल बाद विभाग की समीक्षा बैठक आयोजित कर वचन-पत्र में सम्मिलित तथ्यों पर तत्काल उठाए जाने वाले कदमों की सांभव्यता पर चर्चा की। उन्होंने फसल कर्ज माफी योजना पर चर्चा करते हुए प्रदेश में पाला प्रभावित क्षेत्र की जानकारी प्राप्त की तथा 37 जिलों में 30 प्रतिशत से अधिक नुकसानी क्षेत्र 62,600 हेक्टेयर में आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये।

मंत्री श्री यादव ने प्रदेश में खाद, विशेषकर यूरिया की उपलब्धता एवं वितरण के बारे में जानकारी प्राप्त की। प्रमुख सचिव डॉ. राजौरा ने बताया कि प्रदेश में यूरिया की पर्याप्त उपलब्धता है। निचले स्तर पर डिलीवरी सिस्टम को व्यवस्थित किया गया है। कृषकों को किसी प्रकार की समस्या नहीं आएगी।

कार्यभार ग्रहण करते हुए कृषि मंत्री श्री सचिन यादव।

शीघ्र ही मध्यप्रदेश की 257 कृषि उपज मण्डियों में भारसाधक अधिकारी कार्यभार ग्रहण करेंगे। मण्डी समितियों का कार्यकाल समाप्त होने के चलते यह निर्णय लिया गया है।

मंत्री श्री यादव ने बैठक में निर्देश दिया कि कृषकों को सामयिक सलाह उपलब्ध कराएं। विभाग का मैदानी अमला पूरी तरह सक्रिय रहकर किसानों की समस्याओं का समाधान सुनिश्चित करे।

बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीणा, एम.डी. श्री फैज अहमद किदवई, संचालक कृषि श्री मोहनलाल, संचालक उद्यानिकी श्री सत्यानंद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

शीतलहर से फसलों को हुए नुकसान का सर्वे प्रारंभ

प्रदेश में इन दिनों शीतलहर का प्रभाव चल रहा है। आने वाले दिनों में पाला पडऩे की भी संभावना व्यक्त की गई है। किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग ने राजस्व विभाग से रबी की फसलों को पहुँचे नुकसान का आरबीसी 6-4 के तहत सर्वे किये जाने का अनुरोध किया है। इस संबंध में प्रमुख सचिव, कृषि डॉ. राजेश राजौरा ने राजस्व विभाग को पत्र भी लिखा है।

किसान कल्याण विभाग की ओर से जानकारी दी गई है कि नीमच, बुरहानपुर, विदिशा, धार, देवास और इंदौर कलेक्टर द्वारा उनके जिलों में फसलों को पहुँचे नुकसान के सर्वे का आदेश संबंधित तहसीलदारों को दिया जा चुका है। कृषि विभाग द्वारा किये गये सर्वे में 10 प्रतिशत, 11 से 30 प्रतिशत, 30 प्रतिशत से अधिक प्रभावित क्षेत्र का प्रारंभिक सर्वे किया गया है। इनमें चना, मसूर, मटर, अरहर और उद्यानिकी फसलों को मुख्य रूप से नुकसान पहुँचा है। कुछ क्षेत्रों में गेहूँ की फसलें भी प्रभावित हुई हैं। कृषि विभाग के मैदानी अमले को किसानों से सतत सम्पर्क कर उन्हें सम-सामयिक सलाह देने के लिये कहा गया है।

 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles