फलदार पौध से दोगुनी होगी कृषकों की आमदनी

Share On :

farmers-earnings-will-double-the-yield

रायसेन। नीति आयोग भारत सरकार द्वारा चयनित आकांशा निकी व  कृषि विज्ञान केंद्र, रायसेन द्वारा विकासखण्ड- विदिशा, ग्यारसपुर, गंज बासौदा, कुरवाई, नटेरन, लटेरी के 25 ग्रामों में फलदार पौधों का वितरण किया गया। जिसमें 2 अमरूद, 1 आम, 1 नींबू व 1 बांस के पौधे कृषकों को दिये गये। कृषि कल्याण अभियान-2 अंतर्गत चयनित 25 ग्रामों में 100 कृषकों को कुल 12500 फलदार पौधों का वितरण किया गया है, साथ ही उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण कार्यक्रम के अन्तर्गत कृषकों को हाइब्रिड टमाटर की 2,50,000 पौध का वितरण किया गया। सहायक संचालक उद्यानिकी श्री ए.के. मिश्रा ने कहा कि फलदार पौध आम, अमरूद, नींबू इत्यादि को लगाकर कृषक अतिरिक्त आय प्राप्त कर सकते हैं, साथ ही फल बगीचा, फूलों की खेती, मसाला फसलों की खेती, ड्रिप सिंचाई व स्प्रिंकलर सिंचाई उन्नत तकनीकों का उपयोग कर उत्पादन में वृद्धि कर सकते हैं।

कृषि विज्ञान केंद्र, रायसेन के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. स्वप्निल दुबे ने कहा कि कृषकों को समन्वित कृषि प्रणाली, जैविक खेती, किचिन गार्डनिंग, मशरूम उत्पादन आदि तकनीकों को अपनाना चाहिए। साथ ही कृषकों को अपने घर के पीछे व आस-पास पड़ी हुई खाली जमीन पर किचिन गार्डन बनायें जिसमें छोटी-छोटी क्यारी बनाकर गाजर, मूली, धनिया, प्याज, लहसुन इत्यादि सब्जियों व फलदार पौधों को लगायें। सब्जियों व फलों से कई तरह के प्रोटीन व विटामिन प्राप्त होते हैं। कृषि कल्याण अभियान-2 अंतर्गत चयनित 25 ग्रामों अटारी खेजड़ा, गुरोद, जोहद, त्योंदा, सिरनोटा, उनारसी कला, कागपुर, देवखजूरी, अहमदपुर टप्पा खेड़ा, गुलाबगंज, रजोडा, किरवाया, नंदुपुरा, इमलिया, रंगई, अमोदा, काला पाठा, लेटनी, मडिय़ा धामनोद, घटेरा, देरखी, नेवली, ककरोदा, नटेरन, खेजड़ा तिला में फलदार पौधों का वितरण किया गया। फलदार पौध वितरण कार्यक्रम में उद्यान विभाग के सर्वश्री शिवचरण सेन, एस.आर. कटियार, आर.के. मदोलिया, जे.एस. राजपूत, ए.के. पाटिल, अंकिता जैन का महत्वपूर्ण योगदान रहा।
 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles