स्मार्ट किसानों की पहली पसंद बना टेक्नो जेड जिंक खाद

इंदौर। देश की अग्रणी कम्पनी सल्फर मिल्स मुंबई का टेक्नो जेड ऐसा अनोखा उत्पाद है, जो ओआरटी तकनीक से बना है। माइक्रोग्रेन्युल्स फार्मुलेशन वाला यह उत्पाद दोहरे पोषक तत्वों से युक्त होने से किसानों की पहली पसंद बना हुआ है।

टेक्नो जेड  की विशेषताएं बताते हुए कम्पनी के रीजनल मैनेजर श्री सुरेश शर्मा ने बताया कि यह भारत का पहला ओआरटी तकनीक से बना जिंक खाद है, जो कम मात्रा में लगकर लम्बे समय तक टिकता है। यह दाने में जिंक की मात्रा के साथ ही गुणवत्ता और उत्पादकता भी बढ़ाता है। टेक्नो जेड अन्य उर्वरकों के साथ मिश्रण में न तो प्रतिस्पर्धा करता है, और  न ही फास्फेटिक उर्वरक के साथ स्थिर होता है। इससे  मिट्टी का पीएच मान सुधरता है और फसल की रोग और कीट प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

 यह पौधों में ऑक्सीजन बनाने में भी मदद करता है। इसे किसी भी विधि से उपयोग किया जा सकता है। श्री शर्मा ने प्रयोग का तरीका  बताते हुए कहा कि सबसे पहले 10  -12  किलो नमी युक्त यूरिया में 4  किलो टेक्नो जेड को अच्छी तरह से मिलाएं। फिर इसे सीधे अथवा अन्य उर्वरक के साथ मिलाकर बोनी के समय या बोनी के 15 दिन तक बिखराएं। टेक्नो जेड को सीधे ड्रिप/स्प्रिंकलर की सिंचाई के साथ 4  किलो प्रति एकड़ की दर से भी उपयोग किया जा सकता है। इससे भरपूर पैदावार होती है। इसीलिए यह स्मार्ट किसानों की पहली पसंद बना हुआ है। अधिक जानकारी के लिए

मो. 8827395101  पर संपर्क करें.

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles