सोयाबीन किसानों को इस सप्ताह की उपयोगी सलाह

इंदौर। भारतीय सोयाबीन अनुसन्धान संस्थान, इंदौर द्वारा सोयाबीन किसानों को इस सप्ताह की अवधि के लिए सलाह दी है कि जिन किसानों के यहां 15 -20 दिन की फसल हो चुकी है और बारिश नहीं हो रही है, तो नमी बनाये रखने और खरपतवार नियंत्रण के लिए डोरा/ कुल्पा चलाएं। लेकिन यदि फसल 30 दिन की हो गई है तो कुल्पा न चलाएं।

इसी तरह जिन किसानों ने बोवनी के बाद 15 -20 दिन की फसल होने पर भी खरपतवारनाशक का उपयोग नहीं किया हो तो चौड़ी और संकरी पत्ती वाले खरपतवार के लिए इमाझेथायपर 1 लीटर/हे. का छिड़काव करें। केवल चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार ज्यादा होने पर क्लोरीम्यूरॉन 36 ग्राम/हे. का छिड़काव करें। लेकिन जिन किसानों के खेत में केवल चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार ज्यादा हैं, तो क्विजालोफाप इथाइल 1 लीटर/हे. या फिर क्विजालोफाप पी. टेफूरील 1 लीटर/हे. या फेनॉक्सिफाप पी इथाइल 0.75 लीटर/हे. में से किसी एक का 500 लीटर पानी के साथ फ्लड जेट या कट नोजल का उपयोग कर समान रूप से छिड़काव करें।

जहां पर सोयाबीन की फसल 15 -20 दिन की हो गई है वहां के किसान खरपतवारनाशक के छिड़काव के समय अनुशंसित कीटनाशक का मिश्रित छिड़काव कर सकते हैं। इससे पत्ती खाने वाले कीटों पर नियंत्रण हो सकेगा। इसके लिए इमाझेथायपर, क्विजालोफाप इथाइल 1 लीटर/हे. + क्लोरेनट्रानिलीप्रोल 100 मिली/हे./इंडोक्साकार्ब 333 मिली/हे. 500 लीटर पानी का उपयोग करें। इसके अलावा जहां सोयाबीन अंकुरित हो चुकी है वहां पर नीला भृंग कीट के प्रकोप की आशंका को देखते हुए क्विनालफॉस 1 .5 लीटर/हे. की दर से छिड़काव कर कीट नियंत्रित करें। वहीं पिछले साल जिन स्थानों पर सोयाबीन की फसल पर व्हाइट ग्रब यानी सफेद सुंडी का प्रकोप हुआ था, वहां के किसान विशेष ध्यान दें और सफेद सुंडी को एकत्र कर नष्ट करने के साथ ही फेरोमेन ट्रैप यानी प्रकाश जाल का प्रयोग करें। जहां अधिक वर्षा हो रही है, वहां सोयाबीन के खेत में जलभराव न हो इसका ध्यान रखें।

www.krishakjagat.org
Share