सहकारी संस्थाओं को डिजिटल बनाने में इफको सहयोग करेगा : डॉ. अवस्थी

www.krishakjagat.org

इंदौर। इंडियन फारमर्स फर्टिलाइजर को-ऑपरेटिव लिमिटेड (इफको) जो कि विश्व स्तर की सहकारी संस्था है,  के स्वर्ण जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित ‘संभागीय किसान एवं सहकार सम्मेलनÓ में मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने कहा कि वर्ष 2016 इफको के लिये विशेष वर्ष है क्योंकि इस वर्ष इफको अपनी स्थापना के 50वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है और इसके ‘स्वर्ण जयंती समारोहÓ 3 नवम्बर 2016 से प्रारंभ हो गये हैं। इस वर्ष के दौरान पूरे देश में इस प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजनों  में उन सहकारी बंधुओं तथा सदस्य समितियों के प्रतिनिधियों को शामिल करने का हमारा एक प्रयास है जिन्होंने इफको की सफलता में योगदान दिया है। डॉ. अवस्थी ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल सहकार के सपने को साकार करने के लिये अगले साल तक इफको पूरे देश में 1000 से अधिक ई बाजार केन्द्र शुरू करेगा, जिसमें कृषकों को एक ही जगह पर खाद, बीज, दवाएं, स्वास्थ्य सेवाएं तथा खेती-किसानी की तकनीक व सलाह उपलब्ध करायी जायेगी। इफको किसानों को डिजिटल युग में ले जाना चाहता है। आपने किसानों के प्रश्नों के उत्तर में समझाते हुए कहा कि बड़ा दाने वाला यूरिया पानी में धीरे-धीरे घुलता है व पानी कम खराब करता है। बड़े दाने वाला यूरिया छोटे दाने वाले यूरिया की तुलना में    25 प्रतिशत तक किफायती है। कुछ किसानों ने रसायनिक खाद की बोरियों में हुक लगाने का प्रयोग बंद करने की मांग की तो डॉ. अवस्थी ने कहा कि अब रेक प्वाइंट से सीधे सोसायटी तक खाद पहुंचेगा ताकि हुक लगने से खाद कम न हो।
देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर में आयोजित इस कार्यक्रम को अपेक्स बैंक के अध्यक्ष एवं बदनावर के विधायक श्री भंवर सिंह शेखावत, इंदौर प्रीमियर-को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष श्री उमा नारायण पटेल,  श्री एम.एल. जोशी, राज्य विपणन प्रबंधक, इफको भोपाल ने भी संबोधित किया। कृषि सहकारिता में उत्कृष्ट कार्य करने वाले प्रगतिशील कृषकों व सहकारी कार्यकर्ताओं का सम्मान भी किया गया।
सम्मेलन में इंदौर संभाग के विभिन्न जिलों से दो हजार से अधिक किसान, सहकारी क्षेत्र के नेता व नेता कार्यकर्ता मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन एवं आभार प्रदर्शन श्री सुनील सक्सेना, उप महाप्रबंधक, इफको इंदौर ने किया।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share