समस्या- सरसों फसल में पौध संरक्षण के हिसाब से वर्तमान में क्या कार्य करें विस्तार से बतायें।

www.krishakjagat.org
Share

– मनमोहन मौर्य, बम्होरी
समाधान– सरसों की फसल वर्तमान में फूल-फली की अवस्था में चल रही है इस मौके पर कीट/रोग के आक्रमण पर निरीक्षण और उपाय तत्परता से किया जाना जरूरी होगा। आप निम्न बातों पर ध्यान दें।

  • निचली पत्तियों पर यदि लाल रंग के किनारे दिख रहे हों तो इसे जिंक की कमी मानकर एक छिड़काव 1 किलो जिंक के साथ 5 किलो यूरिया 200 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति एकड़ की दर से छिड़काव करें।
  • पत्तियों में यदि सफेद फफोले दिखाई दे रहे हों तो 600 ग्राम डाईथेन एम 45 250-300 लीटर पानी में घोल बनाकर 15 दिनों के अंतर से दो छिड़काव करें।
  • इस छिड़काव से पत्तियों पर आने वाले अन्य रोगों को भी रोका जा सकता है।
  • माहो की रोकथाम बहुत ही जरूरी है इसके लिये 250 से 400 मि.ली. मेटासिस्टॉक्स 25 ई.सी. इतने ही लीटर पानी में मिलाकर 15 दिनों के अंतर से दो छिड़काव करें।
www.krishakjagat.org
Share
Share