सफल की वित्तीय सेवाएं मध्यप्रदेश के किसानों को

www.krishakjagat.org

इंदौर। सस्टेनेबल एग्रो-कमर्शियल फाईनेंस लि. (सफल) पहली नॉन-बैंकिंग फाइनेशियल कंपनी है, जो खेतीबाड़ी से जुड़े ऋण पर केंद्रित है। इस कंपनी ने मध्यप्रदेश में किसानों को वित्तीय सेवाएं उपलब्ध करवाकर सतत विकास सुनिश्चित करने के लिए राज्य में प्रवेश की घोषणा की है। यह घोषणा इंदौर में सफल के मैनेजिंग डायरेक्टर तथा सीईओ, श्री अरविंद सोनमले के द्वारा की गई।
सफल ने महाराष्ट्र और कर्नाटक में खेतीबाड़ी से जुड़े कामों के लिए 370 करोड़ रु. के ऋण प्रदान करके एनबीएफसी के रूप में अपनी एक अलग पहचान बना ली है। अब यह कृषि की गतिविधियों के विकास तथा राज्य के ज्यादा से ज्यादा किसानों को वित्तीय मदद देने के लिए मध्यप्रदेश में प्रवेश कर रहा है। सफल की वित्तीय सहायता में किसानों के सतत विकास के लिए फसलों की पैदावार बढ़ाने के लिए सोलर पंपों की स्थापना, ड्रिप इरीगेशन और स्प्रिंकलर इरीगेशन, लिफ्ट इरीगेशन योजनाएं, कृषि परियोजनाएं, छोटे बिजऩेस के लिये ऋण, खेती के उपकरणों के लिए ऋण, भूमि विकास, हॉर्टिकल्चर प्लांटेशन, पॉली हाउसेस, शेड नेट, डेयरी तथा खेती में किसी भी तरह के पूंजी के निवेष के लिए दी जाने वाली वित्तीय मदद शामिल है।
सफल उन किसानों की विधवाओं के लिए विशेष लेंडिंग प्रोग्राम भी चला रहा है, जिन्होंने आत्महत्या कर ली और जो परिवार एवं समाज में उपेक्षित हैं। इन विधवाओं को लघु तथा अतिलघु बिजऩेस जैसे ग्रोसरी शॉप, बैंगल षॉप, फ्लोर मिल, कॉस्मेटिक्स आदि के लिए ब्याजमुक्त ऋण दिया जाता है। यह सफल की एक अद्वितीय योजना है, जिसमें 5,000 रु. तक कोई भी व्याज नहीं लगता है; 5,000 रु. से 15,000 रु. तक 5 प्रतिशत प्रतिवर्ष का ब्याज लगता है; 15,000 रु. से 25,000 रु. तक 6 प्रतिशत ब्याज लगता है तथा फिर 50,000 रु. तक 7 प्रतिशत ब्याज लगता है। इसके लिए किसी भी सिक्योरिटी या मार्जिन राशि की जरूरत नहीं होती है तथा इसका रिपेमेंट प्लान भी बहुत आसान एवं 3 सालों का है। इस योजना से पिछले 9 महीनों में इस तरह की 100 विधवाएं लाभान्वित हो चुकी हैं।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share