रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

www.krishakjagat.org
  • रबी की दलहन एवं तिलहन फसलों की कटाई कर धूप में सुखाकर गहाई करें एवं भंडारण हेतु भण्डार गृह के फर्श एवं दीवार के टूटे होने पर सीमेंट या गोबर से सभी छेदों को बंद कर दें तथा पुराने बोरियों को साफ कर धूप में अच्छी तरह सुखा कर ही अनाज का भडारण करें।
  • जायद फसलों में मूंग, उड़द की खेती सभी प्रकार की मिट्टी में जिसका पीएच मान 7 से 8 के बीच में हो तथा जल निकास की उचित व्यवस्था हो कर सकते है। बुआई के पूर्व बीजों को कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम तथा थाइरम के 2 ग्राम मात्रा के साथ थयोमिथाक्सम 75 की 3 ग्राम मात्रा प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करें।
  • मूंग, उड़द की खेती में खाद उर्वरक मृदा परीक्षण के आधार पर देना चाहिये। यदि मिट्टी परीक्षण नहीं हुआ है तो 15-20 किलोग्राम नत्रजन, 40-50 किलोग्राम फास्फोरस, 15 से 20 किलोग्राम पोटाश और 20-25 किलोग्राम जिंक सल्फेट प्रति हेक्टर बुआई के पूर्व खेत में मिलाकर बुवाई करें।

उद्यानिकी

  • प्याज फसल का निरीक्षण करते रहें एवं थ्रिप्स कीट फसल में पाये जाने पर नियंत्रण के लिए इमिडाक्लोप्रिड दवा का 0.5 मिली प्रति लीटर पानी में किसी चिपकने वाले पदार्थ के साथ घोल बनाकर छिड़काव करें।

पशुपालन

  • पशुओं में खुरपका मुंहपका रोगों के प्रमुख लक्षण जैसे तेज बुखार, मुंह में छाले, पशु के खुरों में घाव बनना, पशु का लंगड़ाकर चलना और दुग्ध उत्पादन में अधिक कमी होना है। इससे बचाव हेतु पशु को प्रतिवर्ष मार्च – अप्रैल व सितम्बर-अक्टूबर माह में वर्ष में दो बार टीकाकरण अवश्य करवायें।

कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-

  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं।
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद,ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल Information Services MP का चयन करें।
  • या आप नीचे के QR Code को स्कैन कर, सीधे Information Services MP चैनल का चयन कर सकते हैं।
टोल फ्री नं.18004198800 पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक
FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share