राज्यों के सहयोग से होगी किसानों की आय दोगुनी : श्री सिंह

नई दिल्ली। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने नई दिल्ली में  दो दिवसीय राष्ट्रीय रबी सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर श्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि राज्यों के सहयोग से ही अगले 5 वर्षों में किसान की आय दोगुनी होगी। श्री सिंह ने कहा कि दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन से फसलवार लक्ष्य निर्धारित करना, विभिन्न राज्यों के लिए आदान आपूर्ति व्यवस्था सुनिश्चित करना तथा  कृषि में नई प्रौद्योगिकी और नवाचार को सामने लाने में काफी सहायता मिलेगी।
श्री सिंह ने कहा कि वित्त मंत्रालय ने बजट 2016-17 में कृषि क्षेत्र को 35984 करोड़ रूपये के आवंटन की घोषणा की है। सरकार ने साल 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य तय किया है जो राज्यों के सहयोग से ही संभव हो सकेगा। भारत में सभी प्रमुख फसलों की मौजूदा औसत उपज वैश्विक उपज औसत से कम है। राज्यों के बीच भी उत्पादकता में काफी विविधता है। अत: केंद्र एवं राज्य सरकार के वैज्ञानिक एवं अधिकारीगण समर्पित भाव से किसान की आय दोगुना करने के उपायों पर चर्चा कर ठोस रणनीति  तैयार करें।
श्री सिंह ने सभी उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों से आह्वान किया कि वे अपने पूरे सामथ्र्य एवं निष्ठा से अल्पवृष्टि तथा अतिवृष्टि, बाढ़ से प्रभावित किसानों को उनकी फसल की रक्षा में सहयोग प्रदान करें।
कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री पुरषोत्तम रुपाला ने कहा कि ऐसे क्षेत्रों में जहां अधिक वर्षा दर्ज की गई है, काफी हद तक रबी दलहनों और तिलहनों की बुआई हेतु अनुकूलता की उम्मीद है।
कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री सुदर्शन भगत ने कहा कि सरकार से मिलने वाली सब्सिडी तथा लाभों को प्राप्त करने में किसानों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इसके लिए सरकार ने जन धन योजना तथा प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डी.बी.टी.) योजना के माध्यम से प्रत्येक लाभार्थी को सीधे उसके बैंक खाते में राशि को हस्तांतरण का प्रावधान किया है। वर्तमान में पूरे देश में लगभग 66 केन्द्रीय योजनायें इसके माध्यम से कार्यान्वित की जा रही है और मार्च 2017 तक सभी कल्याणकारी एवं सब्सिडी आधारित योजनाओं को इसके दायरे में लाने का लक्ष्य है। सम्मेलन में कृषि सचिव श्री एस.के. पटनायक एवं भा.कृ.अ.प. के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्रा सहित देश के सभी राज्यों के अधिकारियों ने भाग लिया।

www.krishakjagat.org
Share