म.प्र. में बनेगा राष्ट्रीय कामधेनु ब्रीडिंग सेंटर

www.krishakjagat.org

भोपाल। होशंगाबाद के कीरतपुर (इटारसी) में उत्तरी भारत का राष्ट्रीय कामधेनु ब्रीडिंग सेंटर स्थापित होने जा रहा है। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा और पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने 80 एकड़ में बनने वाले सेंटर का भूमि-पूजन किया। सेंटर 2 वर्ष में बनकर तैयार होगा। केन्द्र शासन द्वारा देश में दो राष्ट्रीय कामधेनु ब्रीडिंग सेंटर स्थापना की स्वीकृति दी गयी है। इनमें से दक्षिण क्षेत्र का सेंटर आंध्रप्रदेश में और उत्तर क्षेत्र का मध्यप्रदेश (कीरतपुर) में स्थापित किया जा रहा है। मध्यप्रदेश राज्य पशु प्रजनन प्रक्षेत्र कीरतपुर में बनने वाले सेंटर के लिये केन्द्र शासन द्वारा 25 करोड़ की राशि जारी की गयी है। राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम इसका निर्माण करवायेगा।
उच्च गुणवत्ता का होगा जर्मप्लाज्म
सेंटर की स्थापना राष्ट्रीय-स्तर के पशु प्रजनन केन्द्र के रूप में की जा रही है, जहाँ देशी नस्लों का उच्च अनुवांशिकता का प्रमाणित जर्मप्लाज्म उपलब्ध रहेगा। नस्लों का संरक्षण, संवर्धन एवं उन्नयन होगा, जिनमें गाय की 39 और भैंस की 13 नस्ल शामिल हैं। प्रथम चरण में गाय एवं भैंस की 15-15 नस्ल का चयन किया जायेगा।
केन्द्र में होंगी आईवीएफ लेब
देश के पशुपालकों और पशुपालन संस्थाओं को देशी नस्लों के उच्च अनुवांशिक सांडों का सीमन, भ्रूण, हीफर आदि उपलब्ध करवाने के लिये केन्द्र में सीमन सेंटर और आईवीएफ लेब भी स्थापित की जायेगी।
देश-प्रदेश का बढ़ेगा दुग्ध उत्पादन
गाय-भैंसों की नस्ल सुधार होने से प्रदेश सहित देश में उच्च गुणवत्ता वाले दुधारु पशु बढ़ेंगे। इससे न केवल दूध की गुणवत्ता और उत्पादन बढ़ेगा, बल्कि दुग्ध उत्पादों पर भी असर पड़ेगा।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share