मछली पालन के लिए स्थान, जल और मिट्टी है खास

www.krishakjagat.org

तालाबों का निर्माण ऐसे स्थान पर किया जाये, जहां की मिट्टी में अच्छी उर्वराशक्ति हो और जल का रिसाव न हो। तालाब ऐसे स्थान में निर्मित किये जायें जहां मीठे जल के स्रोत हों तथा उनके क्षतिग्रस्त होने की संभावना न हो ।
तालाब निर्माण करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखना आवश्यक होता है कि मत्स्य पालन की आवश्यक सामग्री भी सहजता से प्राप्त हो जाये । नये तालाबों का मत्स्य पालन हेतु वैज्ञानिक रीति से निर्माण किया जाय और पुराने तालाबों को यथासंभव समतल कर मत्स्य पालन के लिये उपयुक्त बना लिया जाय। छोटे स्तर पर जो तालाब निर्मित किये जाते हैं, वे दो प्रकार के होते हैं।
प्रजनन तालाब
प्रजनन तालाबों का आकार आवश्यकतानुसार 0.5 से 2.0 हेक्टेयर होता है। तथा गहराई 2 से 3 मीटर तक होनी चाहिए ताकि मत्स्य प्रजनन का प्रबंधन सहजता से हो सके।
45
नर्सरी तालाब
नर्सरी तालाब छोटे तथा मौसमी होते हैं। इन नर्सरी तालाबों में जीरे के आकार से पौने आकार के मछलियों के बीजों का पालन किया जाता है। सामान्यत: इन तालाबों का आकार 0.01 से 0.04 हेक्टेयर और उनकी गहराई 1.0 से 1.5 मीटर होती है ताकि तालाब में मछलियों के बीजों का पालन सहजता से किया जा सके। इन तालाबों के अतिरिक्त प्रजनन और नर्सरी तालाबों के अतिरिक्त दो अन्य इनसे कुछ बड़े तालाब होते हैं ये दो प्रकार के होते हैं।
विरल (रेयरिंग) तालाब
विरल तालाब में इन तालाबों में शिषु मछलियों (फ्राई) का परिपालन और संवर्धन किया जाता है। ऐसे तालाबों में अंगुलिकाएं (फिंगरलिंग) तैयार की जाती है। इन विरल तालाबों का आकार 0.04 -0.1 हेक्टेयर तथा गहराई 1.5-2.0 मीटर होती है ।
संचयक (स्टाकिंग) तालाब
संचयक अथवा मछली पालन वाले तालाब आकार में बड़े होते हैं तथा इन तालाबों में मछलियों का पालन उस समय तक किया जाता है जब वे पुष्ट व खाने योग्य न हो जाएं। ऐसे तालाबों का आकार और क्षेत्रफल 0.5 से 2.0 हेक्टेयर और गहराई 2.0-2.5 मीटर तक होती है।
तालाबों के बांध बहुत मजबूत होने चाहिये ताकि वे जल के भराव को सह सकें। इन तालाबों में सामान्यत: तालाब की निचली सतह से ऊपरी जल सतह के मध्य 2:1 का अनुपात रखा जाता है। तालाब बनाने के लिए 15-25 प्रतिशत रेतीली, 60-80 प्रतिशत बलुई और 8-15 प्रतिशत चिकनी मिट्टी उपयुक्त किया जाता है। ऐेसे तालाबों के लिये जलाशय, नहर आदि से पानी प्राप्त किया जाता है। प्राकृतिक जल स्रोतों की भूमिका इस कार्य में महत्वपूर्ण होती है। यदि जल का अभाव प्रतीत हो तो ट्यूबवैल से जल की आपूर्ति की जा सकती है।
तालाबों के निर्माण के प्रसंग में यह अत्यंत आवश्यक होता है कि तालाब की मिट्टी के गुणों की पूरी तरह जांच कर ली जाये।
मिट्टी की गुणवत्ता और उसकी रसायनिक तात्विकता
मछली पालन के लिये चिकनी तथा दोमट मिट्टी ही सभी दृष्टियों से उत्तम होती है। ऐसी मिट्टी में जल का रिसाव बहुत कम होने के साथ-साथ बांध भी मजबूत बनते हैं।
तालाब की मिट्टी मछली पालन के लिये उपयुक्त है अथवा नहीं, इसका परीक्षण सहज रीति से किया जा सकता है। इसके परीक्षण के लिये थोड़ी सी मिट्टी हाथ में लेकर उसे दबाकर गेंद के आकार में गोल बना लें। उसे ऊपर उछालकर पुन: अपने हाथों में पकड़ लें। इस प्रक्रिया में यदि मिट्टी की गेंद टूटकर बिखरती नहीं है तो यह मिट्टी मछली-पालन के लिये उपयुक्त होती है। मिट्टी की क्षारीयता तथा अम्लीयता आदि का भी परीक्षण कर लेना चाहिये ।
उपर्युक्त तालिका के आधार पर मछली पालन के लिये मिट्टी की उपयुक्तता का परीक्षण किया जा सकता है। यदि तालाब में अधिक रिसाव हो तो उसे गोबर, रसायन (वेन्टोनाइट) अथवा पॉलीथिन से रोका या कम किया जा सकता है पॉलीथिन का उपयोग इस दिशा में बहुत कारगर सिद्ध होता है।
पानी की गुणवत्ता और उत्पादन क्षमता
जिस तालाब में मत्स्य पालन का कार्य संपादित किया जाये, वहां तालाब का जलस्तर 2.0 मी. होना चाहिये। नर्सरी तालाब में यह कम से कम 1.0-1.5 मी. होना आवश्यक है। मछली पालन का कार्य आरंभ करने के पूर्व पानी के रंग और उसकी पारदर्शिता का परीक्षण कर लेना आवश्यक होता है। यदि पानी का रंग नीला अथवा हरा होता है तब यह तथ्य सहज ही समझ लेना चाहिये कि तालाब में हरी अथवा नीली शैवाल का फैलाव है। इसी तरह यदि पानी का रंग भूरा हो तो जल में जन्तु प्लवकों का अधिक्य है। ऐसा जल अधिक उत्पादन देने वाला होता है। यदि पानी बहुत अधिक मटमैला होता है, तो उस पानी में जलीय भोज्य पदार्थो का उत्पादन नहीं हो सकता है किन्तु खाद तथा कृत्रिम आहार की सम्पूर्ति कर ऐसे जल को मछली-पालन के योग्य बनाया जा सकता है। जल का परीक्षण प्रयोगशाला में सहजता से हो जाता है तथा यह ज्ञात हो जाता है कि पानी में अॅाक्सीजन, कार्बन डाईअॅाक्साइड, पी.एच., (अम्लीयता) नाइट्रोजन, तथा फास्फेट्स की कितनी मात्रा उपलब्ध है। पीएच की जांच के लिये पी.एच. पेपर का भी उपयोग किया जा सकता है। रंग की जांच विभिन्न रंगों के रंगफलक अथवा चार्ट के द्वारा कर ली जाती है। इससेे पी. एच. मान तथा मात्रा का परीक्षण हो जाता है। मत्स्य पालन के लिए जल मेें घुली हुई अॅाक्सीजन भी एक उत्पादन के लिए एक महत्वपूर्ण कारक है। जल में घुलनषील अॅाक्सीजन की मात्रा 4 पी.पी.एम. होना चाहिये। जल के गुण और प्रमाण तालिका में दर्शाए गए हैं-

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share