ब्रिक्स देश करें दलहन का उत्पादन

नई दिल्ली। ब्रिक्स देशों के कृषि मंत्रियों के सम्मेलन में सतत कृषि के लिए माडल विकसित और साझा करने के लिए मंच स्थापित करने पर सहमति हो गई है। यह मंच वर्चुअल सुविधा प्रदान करेगा और इसका उद्देश्य खाद्य सुरक्षा को प्रोत्साहित करना , सतत रूप से कृषि विकास करना तथा सदस्यों के सहयोग से गरीबी उपशमन करना है।
देश में ब्रिक्स देशों के कृषि मंत्रियों की यह बैठक पहली बार हुई है। इसकी अध्यक्षता कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने की। श्री राधा मोहन सिंह ने लचीला जलवायु प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहित करने और सूचना आदान-प्रदान क्षमता में सुधार करने का संकल्प व्यक्त किया। श्री सिंह ने कहा कि ब्रिक्स देश दलहन का उत्पादन करें जिससे भारत में दलहन की कमी को पूरा किया जा सके। ब्रिक्स देशों के कृषि मंत्रियों के सम्मेलन की समाप्ति पर बयान जारी किया गया। सम्मेलन में भाग ले रहे देशों ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की घोषणा के अनुरूप 2016 को अंतर्राष्ट्रीय दाल वर्ष घोषित करने पर सहमति व्यक्त की। बैठक में ब्राजील, रूस, चीन और दक्षिण अफ्रीका के कृषि मंत्रियों ने भाग लिया।
इससे पहले ब्रिक्स सम्मेलन को संबोधित करते हुए कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि भारत मृदा स्वास्थ्य कार्ड और प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (सूक्ष्म सिंचाई) के माध्यम से किसानों की लागत में कमी लाने का प्रयास कर रहा है। कृषि और किसान कल्याण मंत्री ने स्वास्थ्य कार्ड और सूक्ष्म सिंचाई के अतिरिक्त सरकार द्वारा जैविक कृषि पर बल दिए जाने की भी चर्चा की।
कृषि और किसान कल्याण मंत्री ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल परिणामों चुनौती से निपटने के लिए भारत ने जलवायु परिवर्तन राष्ट्रीय कार्ययोजना बना कर कार्यक्रम चलाया है।

www.krishakjagat.org
Share