गोदरेज एग्रोवेट- शीर्ष की ओर बढ़ते कदम

www.krishakjagat.org
Share

विक्रेता सम्मेलन सम्पन्न

इन्दौर। गोदरेज एग्रोवेट लि. का विक्रेता सम्मेलन विगत दिनों सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम में श्री राकेश डोगरा हेड एग्री इनपुट बिजनेस, श्री जीतेन्द्र सिंघल हेड सेन्ट्रल यूनिट, श्री तरुण सूर्या डीडीएम मार्केटिंग, श्री युवराज सिंह सिसोदिया क्षेत्रीय प्रबंधक, श्री पनिन कौशल प्रोडक्ट मैनेजर व अन्य अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम में सम्पूर्ण म.प्र. के विक्रेताओं ने भाग लिया।
श्री डोगरा ने कम्पनी की प्रगति की चर्चा करते हुए बताया कि गोदरेज एग्रोवेट अपने क्षेत्र में बड़ी तेजी से विस्तार कर रही है। कई अन्तर्राष्ट्रीय उत्पाद बाजार में लाये जा रहे हैं। अन्तर्राष्ट्रीय एस्टेक कम्पनी का अधिग्रहण किया गया है, जिसके कारण उत्पादों की श्रृंखला में वृद्धि हुई है। उन्होंने बताया कि गोदरेज एग्रोवेट का वार्षिक टर्न ओवर 4500 करोड़ रु. का है, जिसमें 450 करोड़ रु. की भागीदारी एग्रो केमिकल की है। श्री सिंघल ने कहा कि कम्पनी कृषि विस्तार कार्यक्रमों पर विशेष जोर दे रही है, जिसमें मेगा फार्मर ट्रेनिंग, कृषक संगोष्ठी, रैली आदि कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। श्री कौशल ने इम्पूल, हिडविड आदि खरपतवारनाशकों की जानकारी दी। श्री सूर्या ने ट्रायजोल कार्यक्रम की विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं में विक्रेताओं को पुरस्कृत भी किया गया।

निंदाई मुक्त खेती एक अभिनव कार्यक्रम : श्री सिंघल

श्री जितेन्द्र सिंघल ने कृषक जगत से चर्चा में बताया कि गोदरेज एग्रोवेट अपने कृषि विस्तार कार्यक्रमों की कड़ी में निंदाई मुक्त खेती एवं परिवर्तन क्रांति कार्यक्रमों पर विशेष जोर दे रही है। इनके सफल क्रियान्वयन के लिये कपास क्षेत्र में 40 विस्तार कार्यकर्ताओं की टीम निरन्तर कार्य कर रही है, जो कृषकों से जीवंत संपर्क कर इन कार्यक्रमों की जानकारी दे रही है।
उन्होंने बताया कि कम्पनी परागण की समस्या पर विशेष ध्यान दे रही है। फूलों से फल बनने की प्रक्रिया के दौरान फूलों का गिरना सबसे बड़ी समस्या है। अधिकाधिक फूल रहेंगे तभी फलों की संख्या बढ़ेगी एवं उत्पादन अधिक होगा। इसके लिये कम्पनी ने पोलन पावर डबल प्रस्तुत किया है, जिसके अच्छे परिणाम मिल रहे हैं।

अगले चार वर्ष में 2000 करोड़ का लक्ष्य : श्री डोगरा

गोदरेज एग्रोवेट लि. का वर्ष 2020 तक वार्षिक टर्न ओवर को 2000 करोड़ रु, तक पहुँचाने का लक्ष्य है। इसके लिये योजनाबद्ध तरीके से कम्पनी अपने विस्तार कार्यक्रमों को आगे बढ़ा रही है। जिसमें नये राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन, नई इकाइयों की स्थापना, वर्तमान इकाइयों की क्षमता का विस्तार शामिल है।
यह जानकारी श्री राकेश डोगरा ने कृषक जगत से हुई चर्चा के दौरान देते हुए बताया कि एग्रो केमीकल डिविजन ने अपने व्यवसाय में लगभग 15%  की वृद्धि दर्ज की है, जबकि गत वर्ष यह वृद्धि लगभग 23%  थी। उन्होंने बताया कि कम्पनी ने म.प्र. के लिये अपना लक्ष्य 50 करोड़ रु. का निर्धारित किया है, साथ ही सेन्ट्रल जोन का कुल लक्ष्य 85 करोड़ रु. रखा गया है।
श्री डोगरा ने वर्तमान कृषि परिदृश्य पर चर्चा करते हुए कहा कि अब कृषि आदान व्यवसाय में केवल ट्रेडिंग बिजनेस नहीं चल पायेगा। इस बाजार में अब वही कम्पनियों -व्यवसायी टिक पायेंगे जो किसान के पास अपने उत्पाद की सम्पूर्ण जानकारी लेकर जायेंगे और इसे उत्पाद व फसल के संबंध में सम्पूर्ण तकनीकी जानकारी दे पायेंगे। हम भी इसी रणनीति पर कार्य कर रहे हैं। हमारा प्रयास है कि हम किसान को एक सम्पूर्ण कृषि समाधान दे सकें। इसके लिये हम आईटी तकनीक के उपयोग पर भी कार्य कर रहे हैं, डिजिटल तकनीक के उपयोग से मोबाइल एप के लिये कार्य चल रहा है। उन्होंने बताया कि सुरक्षित कृषि रसायन के उपयोग के साथ हम कई नये उत्पादों को भी ला रहे हैं, इसमें ट्रायजोल समूह के कन्ट्रोल, टरनस, कैस्पर, लार्क जैसे उत्पाद हैं। जिन्हें किसानों द्वारा पसंद किया जा रहा है। कपास के लिये शीघ्र ही एक नया उत्पाद प्रस्तुत किया जायेगा। श्री डोगरा ने कहा कि गोदरेज एग्रोवेट का पहला और अंतिम लक्ष्य अपने उत्पाद एवं सेवाओं के माध्यम से किसानों को लाभ पहुँचाना है।

www.krishakjagat.org
Share
Share