बीज निगम : सोयाबीन का 40 हजार क्विंटल बीज उपलब्ध कराएगा : डॉ. गुप्ता

www.krishakjagat.org
Share

बीज निगम के प्रबंध संचालक से कृषक जगत की बातचीत

(अतुल सक्सेना)
भोपाल। म.प्र. राज्य बीज एवं फार्म विकास निगम इस वर्ष खरीफ में सोयाबीन का लगभग 40 हजार क्विंटल प्रमाणित बीज कृषकों को उपलब्ध कराएगा। इसके साथ ही खरीफ की अन्य प्रमुख फसलों जैसे-धान, अरहर, मूंग, उड़द सहित कुल 52 हजार क्विंटल बीज किसानों के लिये उपलब्ध होगा। यह जानकारी निगम के प्रबंध संचालक डॉ. आर.के. गुप्ता ने कृषक जगत को विशेष मुलाकात में दी।

डॉ. गुप्ता ने बताया कि बीज निगम निरन्तर कृषकों को उन्नत किस्मों के प्रमाणित बीज उपलब्ध करा रहा है। वर्तमान खरीफ में किसानों के लिये सोयाबीन की नई किस्मों के बीज जेएस. 97-52 का 350 क्विंटल, जेएस. 9560 का 2500 क्विंटल एवं जेएस 9305 का 400 क्विंटल आधार बीज निगम के उत्पादन कार्यक्रम से जुड़े कृषकों को उपलब्ध कराएगा। जिससे वे बेहतर बीज उत्पादन कार्यक्रम ले सकें। प्रबंध संचालक ने बताया कि अगले वर्ष कृषकों को सोयाबीन की नई किस्म आर.व्ही.एस. 2001-04 एवं जे.एस. 2029 के बीज उपलब्ध हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि सोयाबीन की ये नई किस्में पीला मोजेक रोग की प्रतिरोधी है तथा अन्य किस्मों की तुलना में उत्पादन भी अधिक मिलता है। डॉ. गुप्ता ने बताया कि प्रदेश में जैविक खेती को बढ़ाता देने के उद्देश्य से तथा कृषकों एवं नागरिकों को विषरहित भोजन उपलब्ध कराने की दिशा में बीज निगम ने अभिनव पहल की है। किसानों को जैविक बीज उपलब्ध कराए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि वर्ष 2013-14 से निगम के प्रक्षेत्र बुरहानपुर एवं खमरिया में जैविक बीज एवं खाद्यान्न का उत्पादन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जैविक खेती में रुचि रखने वाले कृषकों के लिए इस खरीफ में अरहर राजीव लोचन तथा अरहर आई सी.पी.एल. 87 किस्म के जैविक बीज विक्रय केन्द्रों पर उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अलावा आगामी रबी के लिए निगम चना, गेहूं, अलसी एवं धनिया के जैविक बीज किसानों को उपलब्ध कराएगा। डॉ. गुप्ता ने बताया कि वर्तमान में निगम के गोविन्दपुरा (भोपाल) स्थित बीज विक्रय केन्द्र से किसान एवं आमजन भी बीज के अतिरिक्त जैविक उत्पाद खरीद सकते हैं। इसमें जैविक चना 80 रु. किलो, गेहूं सुजाता (शरबती) 48 रु. किलो, गेहूं डी डब्ल्यू 322, 35 रुपये किलो, अलसी 280 रु. किलो एवं धनिया 200 रु. किलो की दर पर उपलब्ध है। ये सभी जैविक उत्पाद है। प्रबंध संचालक ने बताया कि अच्छे एवं शुद्ध उत्पादन के लिये किसान को जैविक बीजों का उपयोग करना चाहिए बीज निगम इस दिशा में विशेष प्रयास कर रहा है। उन्होंने बताया कि आगामी वर्षों में निगम के तीन क्षेत्रीय जैविक केन्द्र औबेदुल्लागंज, जबलपुर तथा इंदौर से लगभग 5 हजार क्विंटल जैविक बीज एवं उत्पाद उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है। इस दिशा में प्रयास किए जा रहे हैं।

www.krishakjagat.org
Share
Share