किसान खेती को लाभ का धंधा बनायें : श्री जावड़ेकर

www.krishakjagat.org
Share

छिन्दवाड़ा। केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि किसान मेहनती होते हैं उन्हे सही योजना, सिंचाई के लिये पानी, उन्नत तकनीक, सही उपकरण, सही प्रशिक्षण, सही सलाह आदि मिलेगी तो वे अपना फसल उत्पादन बढाकर समृद्ध हो सकते है। इस दिशा में किसान अपने आपको उद्योगपति समझें और उचित प्रबंधन के द्वारा खेती कर खेती को लाभ का धंधा बनाये। ग्राम का विकास किसानों के विकास से जुड़ा हुआ है। किसान समृद्ध होंगे तो ग्राम उदय होगा और ग्राम उदय से भारत उदय होगा।
श्री जावड़ेकर जिले की उमरेठ तहसील मुख्यालय पर आयोजित ग्राम उदय से भारत उदय अभियान और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे।
इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कांता ठाकुर, नगर निगम महापौर श्रीमती कांता सदारंग, विधायकगण सर्वश्री चौधरी चन्द्रभान सिंह, पं. रमेश दुबे, नानाभाऊ मोहोड और नत्थनशाह कवरेती, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री मारोतराव खवसे, नगर निगम अध्यक्ष श्री धर्मेन्द्र मिगलानी, सर्वश्री राजू परमार, रमेश पोफली, कन्हईराम रघुवंशी, दौलतसिंह ठाकुर, अरूण कपूर, ताराचंद बावरिया, सुश्री अनुसुईया उईके और अन्य जनप्रतिनिधि, कलेक्टर श्री जे.के. जैन, पुलिस अधीक्षक श्री जी.के. पाठक, मुख्य वनसंरक्षक श्री चितरंजन त्यागी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती सुरभि गुप्ता, अतिरिक्त कलेक्टर श्री आलोक श्रीवास्तव, जिला और जनपद पंचायत स्तरीय अधिकारी, पत्रकार तथा बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।
किसानों के लिये प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, प्रधानमंत्री लघु सिंचाई योजना, मुद्रा कोष योजना, स्वाईल हेल्थ कार्ड योजना आदि भी प्रारंभ की है जिससे खेती को लाभ का धंधा बनाने के साथ ही युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गत 12 वर्षों में 34 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराकर अभूतपूर्व कार्य किया है जिससे किसानों की खेती में सुधार आया है और वे आत्म-निर्भर एवं समृद्ध हो रहे है। उन्होंने कहा कि किसानो के लिये प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत अब जहां बीमा प्रीमियम की राशि कम की गई है, वही किसान को अब व्यक्तिगत बीमा का भी लाभ मिलेगा।

www.krishakjagat.org
Share
Share