निजी कम्पनियों के प्रवेश के बावजूद एलआईसी जीवन बीमा में अग्रणी

www.krishakjagat.org
Share

भोपाल। भारतीय जीवन बीमा निगम अपनी स्थापना की 59वीं वर्षगांठ मना रहा है। एलआईसी ने जनमानस में जीवन बीमा की जागरूकता का निर्माण करने में तथा जनता का पैसा, जनता के हित में निवेश करने में महती भूमिका निभाई है। जीवन बीमा उद्योग में निजी बीमा कंपनियों के एक दशक से भी अधिक समय से प्रवेश करने के बावजूद एलआईसी आज भी मार्केट हिस्सेदारी के आधार पर नेतृत्वकारी भूमिका में है।
वर्ष 2014-15 में निगम ने नयी जारी हुई पॉलिसियों की 77.85 फीसदी मार्केट हिस्सेदारी अपने पास रखने में सफल हुआ तथा प्रथम प्रीमियम आय में निगम की मार्केट हिस्सेदारी 69.21 फीसदी रही।
निगम द्वारा वर्ष 2014-15 में 99.78 प्रतिशत पूर्णावधि दावे तथा 99.51 प्रतिशत मृत्यु दावे का निराकरण किया गया। यह जानकारी श्री के.एस. नागन्याल क्षेत्रीय प्रबंधक ने पत्रकार वार्ता में दी। इस अवसर पर श्री जे.सी. राम प्रादेशिक प्रबंधक निगमित संप्रेषण भी उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि एलआईसी पोर्टल 222.द्यद्बष्द्बठ्ठस्रद्बड्ड.द्बठ्ठ एकमात्र सबसे बड़ा संग्रहण केंद्र है जिसके 35634 आउटलेट्स का उपयोग प्रीमियम संग्रहण एवं अन्य सेवाओं के लिये किया जा रहा है। प्रतिवर्ष, एलआईसी गोल्डन जुबली स्कॉलरशिप स्कीम के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को उनके बच्चों के द्वारा स्नातक/ व्यावसायिक पाठ्यक्रम में उच्च शिक्षा हासिल करने के लिये छात्रवृत्ति उपलब्ध करायी जाती है।

www.krishakjagat.org
Share
Share