जब टीकमगढ़ कृषि विश्वविद्यालय में किसान बने छात्र

www.krishakjagat.org
Share

सागर। के.जे. एजुकेशन सोसायटी भोपाल ने जिले के शाहगढ़, खुरई एवं जैसीनगर विकासखंडों के चयनित कृषकों का जिले के बाहर कृषि महाविद्यालय टीकमगढ़ में भ्रमण प्रशिक्षण कराया। वैज्ञानिक डॉ. डी.एस. तोमर एवं डॉ. एम.के. नायक ने किसानों को कृषि लाभ का धंधा कैसे बने के सूत्र विस्तार से बताये। कृषि महाविद्यालय के प्रशिक्षण हाल में आयोजित कार्यक्रम में वैज्ञानिकों ने खरीफ एवं रबी फसलों में लगने वाले कीट व्याधि से बचाव एवं कीटनाशकों के प्रयोग को बताया। बीज भंडारण, बीजोपचार भी सीखा। कृषकों ने महेन्द्र बाग स्थित उद्यानिकी नर्सरी में आम, अमरूद, आंवला, अनार की फसलों के उत्पादन, क्राप कटिंग तकनीक देखी। कृषकों ने कृषि विज्ञान केन्द्र में कार्यक्रम समन्वयक से ग्रीन हाऊस, सोयाबीन, धान खरीफ फसलों के प्रदर्शन देखे। दल ने मिनोरा स्थित राष्ट्रीय मेड़ फार्म का भी भ्रमण किया। समस्त गतिविधियों में सोसायटी के जिला समन्वयक काशीराम रैकवार संयोजक बने।

www.krishakjagat.org
Share
Share