गर्मी में सेहत का ख्याल

www.krishakjagat.org
Share

गर्मी के सीजन में लोगों में कई तरह की स्वास्थ्य समस्या देखी जा सकती हैं। यह बीमारियां पानी की कमी के कारण ही होती हैं। ऐसे में सेहत को नजरअंदाज करना खतरनाक साबित हो सकता है। इस मौसम मेें लोगों को सेहत पर बहुत ध्यान रखने की आवश्यकता है।
खासकर की बच्चों के साथ, क्योंकि उन्हें घर के खाने की अपेक्षा बाहर का खाना ज्यादा पसंद होता है। बाहर के खाने में तेल की अधिकता होने के कारण वे शरीर में नुकसान करता है। इसकी वजह से लोगों में कई स्वास्थ्य समस्या देखने को मिलती हंै। पानी और भोजन ही है, जिसके जरिये हमारे शरीर में बीमारियां घर करती हैं। एकदम से तापमान बढऩे के कारण शरीर में सूक्ष्मजीवों की बढ़वार भी बढऩे लगती है। टाइफाइड और पीलिया जैसी बीमारियां इसी मौसम में ज्यादा होती हैं। हालांकि यह बीमारियां इतनी खतरनाक नहीं होती हैं। यदि इनके मामले में लापरवाही बरती गई तो इसके परिणाम गंभीर हो सकते हैं। इसके साथ ही लू लगने से बुखार होने की आशंका रहती है।
डिहाइड्रेशन प्रॉब्लम – इस मौसम में शरीर में पानी की कमी हो जाती है, जिससे डिहाइड्रेशन की समस्या देखने को मिलती है। यह समस्या अधिकांशत: बच्चों और शिशुओं में होती है। ऐसे में बच्चों को लूज मोशन और उल्टी हो जाती है, इसलिये इन समस्या से निजात पाने के लिये जरूरी है कि आप खूब पानी पीएं। जहां तक हो ग्लूकोज युक्त पानी पीएं तथा दिन भर में कम से कम 3 लीटर पानी सभी को पीना जरूरी है।
तो नहीं लगेगी लू – धूप के सम्पर्क में आने के तुरंत बाद पानी न पीएं। इससे सर्दी-जुकाम और सिरदर्द की समस्या बढ़ जाती है। धूप में निकलने से पहले पानी पीकर निकले। मठा और दही का सेवन करेंगे तो लू नहीं पकड़ेगी।
मौसमी सब्जियों का सेवन करें-
यह ध्यान रखने की बात है कि इस मौसम में केवल उन्हीं चीजों का सेवन किया जाए जो मौसमी हो, गैर मौसमी चीजें नहीं खाना चाहिए। इससे स्वास्थ्य प्रभावित होता है। खासतौर पर इस मौसम में विटामिन सी और जिंक युक्त चीजों का सेवन करना चाहिए। सभी खट्टïे फलों में विटामिन सी पाया जाता है, इसलिए इन फलों को धोकर और साफ-सुथरा करके खाना चाहिए। अधिकांशत: खिचड़ी, चावल और हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए एवं बाहरी खाद्य पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए।

www.krishakjagat.org
Share
Share