कम पानी की फसलों की बुवाई करने की किसानों को दी जाए सलाह : कलेक्टर

www.krishakjagat.org
Share

खरगौन। कलेक्टर श्री नीरज दुबे ने बदलती परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए कम पानी की फसलें बोने की किसानों को सलाह देने के कृषि अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने यह निर्देश यहां संपन्न हुई कृषि आदान व्यवस्था की बैठक के दौरान दिए। बैठक में उप संचालक कृषि, उप संचालक उद्यानिकी समेत मत्स्योद्योग विभाग एवं जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अधिकारी भी उपस्थित थे। कलेक्टर ने अधीक्षक भू-अभिलेख को निर्देश दिए कि गत वर्ष जिस पटवारी हल्के में 100 हेक्टेयर से अधिक रकबे में जिस-जिंस की बोवाई हुई हो, उसका सर्वे कराया जाए। हर पटवारी हल्के में तीन-तीन फसल कटाई प्रयोग कराए जाएं। इस आशय के तहसीलदारों को निर्देश जारी किए जाएं। कलेक्टर ने उप संचालक उद्यानिकी को निर्देश दिए कि जिन उद्यानिकी फसलों का रकबा बढ़ा है, उनको पटवारियों से रिकार्ड में दर्ज कराया जाए। कलेक्टर ने अधीक्षक भू-अभिलेख को हिदायत दी कि पटवारियों के माध्यम से यह जानकारी संकलित कराई जाए कि फसलों की सामान्य स्थिति क्या है और फसलों का अनुमानित रकबा कितना है। कलेक्टर ने जिले में खाद की उपलब्धता के बारे में उप संचालक कृषि से पूछा। बैठक में जानकारी दी गई कि जिले में रबी में 180350 हेक्टेयर के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक 168840 हेक्टेयर रकबे में विभिन्न फसलों की बोवाई की जा चुकी है। इसमें से 131200 हेक्टेयर रकबे में गेहूं, 28880 हेक्टेयर रकबे में चना, 205 हेक्टेयर रकबे में सरसों, 5500 हेक्टेयर रकबे में मक्का एवं 3055 हेक्टेयर रकबे में अन्य फसलों की बोनी की गई है। इसी प्रकार जिले को उवर्रकों में 31935 मे. टन यूरिया, 12256 मे. टन एसएसपी, 12548 मे. टन डीएपी, 4205 मे. टन एमओपी एवं 4431 मे. टन 12:32:16 उवर्रक उपलब्ध हुआ है। इस बीच विभिन्न प्रतिष्ठानों से बीज के 75, उवर्रक के 122 एवं पौध संरक्षण के 6 नमूने उठाए गए।

www.krishakjagat.org
Share
Share