एक फसल पर निर्भरता कम करें किसान

www.krishakjagat.org

इन्दौर। किसान फसल चक्र परिवर्तन को अपनाकर प्राकृतिक आपदा, अतिवृष्टि, अल्पवृष्टि की समस्याओं से काफी हद तक निदान पा सकते हैं। आवश्यक है किसानों की किसी एक फसल पर निर्भरता कम हो। एक ही फसल सीजन में अलग-अलग प्रकार की फसलें लेकर लाभ भी कमा सकते हैं और प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान को कम कर सकते हैं। यह बात कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आर.के. स्वाई ने इंदौर संभाग की समीक्षा बैठक में कही। बैठक में प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा, संभागायुक्त श्री संजय दुबे, कृषि, सहकारिता आयुक्त श्री मनीष श्रीवास्तव एवं संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
यंत्रीकरण पर जोर : यंत्रीकरण, गहरी जुताई और रेज्डबेड प्लांटर से बुआई से उत्पादन में 20 से 40 प्रतिशत वृद्धि ली जा सकती है। 1.25 लाख के रेज्डबेड प्लांटर पर अधिकतम 55 हजार का अनुदान है। मल्टीक्राप प्लांटर से एक ही सीजन में अलग-अलग फसलें एक ही खेत से प्राप्त की जा सकती हैं। हेप्पी सीडर से नरवाई रहते हुए भी बुआई की जा सकती है। किसान कृषि यंत्र खरीदने एमपी ऑन लाइन से आर्डर करें और होम डिलेवरी प्राप्त करें।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share