इफको ने बताया जैविक खेती का महत्व

www.krishakjagat.org

शिवपुरी। सहकारी उर्वरक संस्था इफको के तत्वावधान में कृषि विभाग एवं सहकारिता विभाग के सहयोग से जिला शिवपुरी के नरवर ब्लॉक के ग्राम – मायारामपुरा में जैव उर्वरक अभियान का आयोजन गत दिनों वरि. कृषि विकास अधिकारी नरवर श्री जे.एस. तोमर, क्षेत्रीय अधिकारी इफको शिवपुरी श्री आर.के. महोलिया, मगरोनी समिति प्रबन्धक श्री रामेश्वर माथुर, कृषि विकास अधिकारी श्री आर.सी. झा एवं किसानों की उपस्थिति में किया गया।
कार्यक्रम के प्रारम्भ में श्री महोलिया क्षेत्रीय अधिकारी इफको शिवपुरी द्वारा अतिथियों तथा सभी आगन्तुकों का स्वागत करते हुए बताया कि भूमि की बिगड़ती दशा एवं रसायनिक उर्वरकों के बढ़ते दामों को देखते हुए किसान भाईयों को फसल को लाभ का धन्धा बनाने के लिए जैविक उर्वरकों का उपयोग करना चाहिए। किसान भाईयों को जैव उर्वरक राइजोबियम, एजेटोबेक्टर, पी.एस.बी., एन.पी.के. कल्चर एवं सागरिका के बारे में विस्तार से बताया कि सागरिका एक समुन्द्री शेवाल से बनाया हुआ उत्पाद है, इसमे पौधे को आवश्यक सभी प्रकार के तत्व ,एन्जाइम, विटामिन्स, एमीनो एसिड एवं हार्मोन्स उपलब्ध है, जो कि पौधे की बढ़वार एवं पैदावार बढ़ाने मे सहायक है। श्री तोमर ने बताया कि किसानों को अपनी भूमि की सरंचना को सुधारने के लिए हरी खाद एवं गोबर खाद का अधिक से अधिक उपयोग करना चाहिए। श्री माथुर ने बताया कि किसान भाईयों को सहकारी समिति के माध्यम से उर्वरक एवं जैव उर्वरक आदि का लेन – देन करें क्योंकि किसानों को ऋण पर उर्वरक एवं बीज दिया जायेगा। अन्त में इफको ने जैव उर्वरक सागरिका के 70 किट किसानों को वितरित किये, किसानों को उपयोग करने की विधि के बारे में विस्तार से बताया।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share