अन्तर कृषि महाविद्यालयीन खेलकूद प्रतियोगिता सम्पन्न कृषि महाविद्यालय जबलपुर ओवरऑल चैम्पियन

www.krishakjagat.org

जबलपुर। जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय में चल रही दो दिवसीय अन्तर कृषि महाविद्यालयीन खेलकूद प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण के साथ सोल्लास समापन हो गया। समारोह के अतिथिगण अधिष्ठाता कृषि संकाय डॉं. पी.के. मिश्रा, संचालक अनुसंधान सेवाएं डॉं. एस.के. राव, संचालक विस्तार सेवाएं डॉं. पी.के. बिसेन, संचालक शिक्षण डॉं. धीरेन्द खरे, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय डॉं. (श्रीमती) ओम गुप्ता, अधिष्ठाता कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय डॉं. आर.के. नेमा एवं अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉं. व्ही.के. प्यासी ने विजेताओं को चैम्पियन ट्राफी एवं प्रमाण-पत्र प्रदान कर पुरस्कृत किया। कार्यक्रम का संचालन एवं आभार प्रदर्शन क्रीड़ा अधिकारी डॉं. यशपाल सिंह ने किया।
खेले गये रोमांचक बालीबाल मुकाबले में कृषि इंजी. महा. जबलपुर ने कृषि महा. जबलपुर को हराकर विजेता होने का गौरव हांसिल किया। 800 मी. की महिला वर्ग दौड़ में अल्पना कुम्हारे जबलपुर और पुरूष वर्ग में जितेन्द गोयल रीवा ने तथा 400 मी. महिला वर्ग दौड़ में शोभना बिसेन इंजी. जबलपुर और पुरूष वर्ग में गोविन्द यादव कृषि महा. जबलपुर ने स्वर्ण पदक जीता। रीवा की प्रियंका पुशाना और अभियांत्रिकी के दिलीप कुमार कोल ने भाला फेंक में स्वर्ण पदक पर निशाना साधा। 5000 मी. की दौड़ रीवा के धर्मेन्द द्वार ने जीती। लम्बी कूद पुरूष में बालाघाट के विशाल इकवले तथा कृषि महा. जबलपुर की भाग्यश्री ओशाले ने स्वर्ण पर सफल छलांग लगाई। ऊंची कूद स्पर्धा महिला वर्ग में सोनाली सिंह रीवा एवं पुरूष वर्ग में अनिल चौधरी कृषि महा. जबलपुर ने सोना जीता। बैडमिंटन महिला का खिताब ज्वाला परटे व रामबरन शर्मा कृषि महा. जबलपुर के नाम रहा, जबकि टेबिल टेनिस में जबलपुर की अदिति चौरसिया और तौकीर आलम विजेता बने। कबड्डी के संघर्ष पूर्ण मैच में कृषि महा. जबलपुर ने रीवा को शिकस्त दी। खो-खो पुरूष में कृषि महा. जबलपुर ने टीकमगढ़ को हराया।
अन्त में भारी उत्साह जोष और उमंग के बीच सम्पन्न महिला 4 ग् 100 रिले रेस में जबलपुर और पुरूष रिले रेस में रीवा ने स्वर्ण पदक हांसिल किया। जबलपुर के ही गोविन्द यादव और कु. भाग्यश्री को जहां बेस्ट एथलीट अवार्ड से नवाजा गया, वहीं दूसरी तरफ कृषि महा. जबलपुर ने ओवर ऑल चैम्पियनषिप ट्राफी पर कब्जा जमाया।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share